शनिवार, 23 अप्रैल 2016

Nayee Khabar

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने शहीद किसान गजेन्द्र की प्रथम पूण्यतिथी पर उसके घर जाकर श्रद्धासुमन अर्पित किये

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह जी राजस्थान के दौसा जिले के गाँव नांगल झाँबरवाडा के शहीद किसान गजेन्द्र की प्रथम पूण्यतिथी पर उसके घर पहुंचे, वहां स्वर्गीय गजेन्द्र को श्रद्धासुमन अर्पित किये और फिर किसानों से सम्बंधित मुद्दे और दिल्ली सरकार द्वारा स्वर्गीय गजेन्द्र के परिवार से किये गए वादों पर सरकार की तरफ से और अपनी बात रखी ।

संजय सिंह जी ने पूण्यतिथी पर शहीद किसान गजेन्द्र को श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद कहा की किसान को जातियों के रूप में बाँट दिया है राजनैतिक पार्टियों ने इस कारण किसान से जुड़ा हर मुद्दा पीछे हो जाता है राजनीतिक कारणों से, जरूरत है किसान एक वर्ग के रूप में मिलकर अपनी आवाज उठाये ।

अंग्रेज सीखा गए की भारत की जनता पर राज करना है तो इन्हें आपस में जाति और धर्म के नाम पर बाँट दो और आराम से जनता पे राज करो । आज देश में यही हो रहा है जाति और धर्म के मुद्दे के पीछे जनता से जुड़े हर मुद्दे को छुपा दिया गया है ।

किसानों के हित के लिए आज जरूरत है लोहिया जी के विचार किसान की फसल का 'दाम बांधो' , इसे नीति बना दिया जाए सरकार द्वारा तो किसान को काफी राहत मिलेगी । जहाँ गंगा - यमुना जैसी पवित्र नदी वहां विदेशी कंपनियों द्वारा पानी का धंधा बना दिया गया, पानी बेचा जा रहा है महंगे दामों पर ।

दुनिया की विदेशी कंपनियों ने अर्थव्यवस्था पर कब्जा कर लिया इस कारण आज देश का किसान पीड़ित है ।

व्यापरियों का सवा लाख करोड़ रूपये का लोन माफ़ कर दिया गया जबकि एक किसान का 5000 रूपये के बकाया लोन के लिए पोस्टर चिपका दिए जाते हैं की इसने बैंक का पैसा नहीं चुकाया, ऐसा क्यों ?

संजय सिंह जी ने शहीद किसान गजेन्द्र के परिवार से सम्बंधित दिल्ली सरकार द्वारा किये वादे और उस पर अमल के बारे में बताया ,

1. गजेन्द्र की बिटिया की शादी बहुत अच्छे से करेंगे जो वादा किया उससे भी आगे बढ़कर ।

2. गजेन्द्र को किसान शहीद का दर्जा दिया गया ।

3. दिल्ली की सरकार द्वारा किसानों को दिए जाने वाले फसल मुवावजा योजना का नामकरण स्वर्गीय गजेन्द्र जी के नाम पर किया गया ।

4. स्वर्गीय गजेन्द्र के बेटे की नौकरी का फैसला हो गया, दिल्ली सरकार ने नौकरी का पत्र परिवार को भेज दिया है और वो पत्र परिवार को मिल चुका है 18 साल का होने पर बच्चे को नौकरी मिल जायेगी ।

स्वर्गीय गजेन्द्र के परिवार से रिश्ता क्षणिक नहीं, बनाया है तो निभाएंगे । जितने वादे किये हैं वो सब पुरे किये जायेंगे ।

किसानों के मुद्दे पर हर तरह से लड़ेंगे
   
===============
     महेन्द्र भाई पटेल