मंगलवार, 5 जुलाई 2016

Nayee Khabar

मोदी मंत्रीमंडल विस्तार: 10 राज्यों से 19 नए चेहरे शामिल, जावड़ेकर बने कैबिनेट मंत्री; यूपी की भागीदारी बढ़कर हुई 14

नई दिल्ली, जुलाई 5: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अपने मंत्रीमंडल का दूसरी बार विस्तार किया। राष्ट्रपति भवन के अशोका हॉल में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने नए मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। मोदी सरकार के दो साल के कार्यकाल के सबसे बड़े फेरबदल में यूपी के साथ पंजाब और गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनावों को बखूबी ध्यान में रखा गया है। कैबिनेट में 10 राज्यों से 19 नए चेहरों को शामिल किया गया जबकि राज्य मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कैबिनेट मंत्री के रूप में प्रमोशन किया गया।


मध्य प्रदेश मांडला से लोकसभा सदस्य फग्गन सिंह कुलस्ते को शपथ दिलार्इ गर्इ। फिर दार्जिलिंग से सांसद एसएस आहलूवालिया ने शपथ ली। महाराष्ट्र के बड़े दलित नेता और आरएलएसपी अध्यक्ष रामदास आठवले को भी मोदी मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। राजस्थान से राज्यसभा सांसद विजय गोयल ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ ली।

वहीं, कर्नाटक के बीजापुर से पांच बार के सांसद रमेश चंदप्पा ने भी मंत्री पद की शपथ ली। इनके अलावा राज्यसभा सांसद एमजे अकबर, भाजपा के उपाध्यक्ष परषोत्तम रूपाले, मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद अनिल माधव दवे, असम के नागांग के सांसद राजेन गोहेन, राजस्थान के बीकानेर से सांसद अर्जुन राम मेघवाल, गुजरात के दाहोद से सांसद जसवंत सिंह भाभोर, उत्तराखंड अल्मोड़ा के सांसद अजय टम्टा, गुजरात से राज्यसभा सांसद मनसुख भार्इ मंडपिया, राजस्थान नागौर से सांसद सीआर चौधरी, राजस्थान के पाली से सांसद पीपी चौधरी और महाराष्ट्र के धुले से सांसद डा. सुभाष भामरे को मोदी के मंत्रिमंडल में जगह मिली।
बता दें की मई 2014 में सत्ता संभालने के बाद मोदी मंत्रिमंडल में यह सबसे बड़ा फेरबदल है। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद निहाल चंद, रामशंकर कठेरिया, सांवरलाल जाट, मनसुख बसावा, मोहन कुंडारिया और जीएन सिद्धेश्वरा ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। कैबिनेट में शामिल किए जा रहे नामों का चयन अपने विकास के विजन, गुड गवर्नेंस और केंद्र की गांव, गरीब और किसान की नीतियों को ध्यान में रखते हुए किया है।
सुबह 11 बजे शुरू हुए मंत्रिमंडल विस्तार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अरुण जेटली, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी समेत मोदी सरकार के अधिकांश मंत्री मौजूद थे। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज हंगरी के विदेश मंत्री के साथ पहले से तय मीटिंग की वजह से कैबिनेट विस्तार के दौरान शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाई. उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया कि वह राष्ट्रपति भवन में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में आने में सक्षम नहीं हैं। इसके साथ ही उन्होंने मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले साथी सांसदों को बधाई दी।

=============
नई ख़बर की रिपोर्ट